सीपीईसी में शामिल होने पर अफगानिस्तान सहमत

अफगानिस्तान ने 26 दिसम्बर, 2017 को चीन-पाकिस्तान इकोनॉमिक कॉरिडोर (सीपीईसी) में शामिल होने पर अपनी सहमति व्यक्त की है। बीजिंग (चीन) में अफगानिस्तान, पाकिस्तान तथा चीन के विदेश मन्त्रियों की बैठक में सीपीईसी में अफगानिस्तान के शामिल होने पर सहमति बनी।

अफगानिस्तान ने ‘बेल्ट एण्ड रोड प्रोजेक्ट में भी सक्रियता के साथ हिस्सा लेने पर अपनी सहमति दी है। बैठक में अफगानिस्तान के विदेश मन्त्री सलाहद्दीन रब्बानी, चीन के विदेश मन्त्री वांग तथा पाकिस्तान के विदेश मन्त्री ख्वाजा आसिफ ने हिस्सा लिया।

बीजिंग (चीन) ने पहले ही इस प्रोजेक्ट में अन्य देशों को साझीदार बनने का प्रस्ताव दिया है। भारत सीपीईसी का विरोध कर रहा है, क्योंकि इसके तहत पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर के बड़े हिस्से में हाईवे और अन्य डेवलपमेंट प्रस्तावित है। भारत का मानना है कि यह भारत के भौगोलिक क्षेत्र में दखल है।

चीन, पाकिस्तान और अफगानिस्तान में इस बात पर सहमति बनी है कि वह आतंकियों को पनाह नहीं देंगे। साथ ही अपने देश से आतंकवादी गतिविधियों की इजाजत देंगे।

तीनों देशों के विदेश मंत्रियों की मीटिंग में सहमति बनी कि आतंकियों के खिलाफ कार्रवाई करेंगे। तीनों विदेश मंत्रियों ने सुरक्षा मुद्दों पर चर्चा की।